खेलने कूदने की उम्र में सीख रहे हैं Business !

 

MSME Story के इतिहास में यह पहली बार है जहाँ हम किसी Established Business की जगह 2 बच्चों की कहानी बताने वाले हैं !

aa

कुछ दिनों पहले फाउंडर Varun Surana ने फेसबुक पर उदयपुर के श्री हरीकृष्ण सयाल की पोस्ट देखी जहाँ उन्होंने अपने बच्चों के बिज़नस सिखने की इच्छा को देखते हुए उन्हें कुछ ऐसा करने की सलाह दी जिसे आप और हम में से कई लोग सोच भी नहीं सकते, जी हाँ पेरेंट्स ने बच्चों को इजाजत दे दी की वो अपने स्तर पर कुछ स्टार्ट करें और वास्तविक तरीके से सीखें, बच्चों की सिर्फ मदद पेरेंट्स ने की और बच्चों ने शुरू कर दिया राब (मेवाड़ का सर्दियों का फेवरेट ड्रिंक) अपने घर के पास एक कम्युनिटी हॉल  के बहार सड़क किनारे अपना बिज़नस (फ़िलहाल छोटा वाला बेटा इसे बिनेस कहता हैं )

 

Krishnans को बचपन से सुनने में दिक्कत है वो आज भी 60% के आस पास ही सुन पाता हैं लेकिन हौसले ऐसे हैं की बड़े बड़ों को मात दे दे, जब हम वहां पहुंचे तो बड़े उत्साह से उन्होंने बताया कैसे वो बार्गेनिंग हैंडल करते हैं, अपने ग्राहकों को अच्छी सर्विस देते हैं, खुद तैयरी करते हैं  यहाँ तक की खरीददारी भी खुद करने अपने पापा के साथ जाते है और पूरा सेटअप बच्चों ने अपनी पॉकेट मनी से किया और उन्हें देख उनका एक दोस्त भी उनके साथ खड़ा हो गया !

 

आज देश की जरुरत है ऐसे पेरेंट्स की जो बच्चों की सोश्यल स्टेटस के दिखावे से बहार निकल ग्राउंड लेवल पर कुछ सिखाने की प्रेरणा का माध्यम बन सकें, जो बच्चों की रूचि को अपने स्वार्थ या व्यस्तता के चलते दफ़न करने की जगह उनके साथ कन्धे से कन्धा मिला कर खड़े हो सकें, दोनों बच्चे अपने पेरेंट्स की मदद से वीकेंड पर मील कोम्बो भी बेचते हैं जहाँ 100 से अधिक कॉम्बो रोज बेच देते हैं (100 मील बेचना आज भी कई रेस्टोरेंट्स के लिए सपना होता है)

sayal

उदयपुर में सेक्टर 14 में CA सर्किल पर सामुदायिक भवन के बाहर दिन भर अपनी पढाई करके शाम 5 बजे से दोनों बच्चे पहुँच जाते हैं अपना बिनेस शुरू करने अगर आप भी उदयपुर शहर से हैं या कभी आएं तो हो सके तो इन बच्चों का हौसला अफजाई जरुर करे और साथ ही समय निकाल कर बच्चों के पेरेंट्स से पेरेंटिंग भी सीखें और इन बच्चों की कहानी ज्यादा से ज्यादा पेरेंट्स और बच्चों तक पहुचाएं और बर्बादी के कगार पर खड़ी बड़ी संख्या में आने वाली जनरेशन को बदलने में अपनी आहुति देवें !

 

बच्चों के पापा का नंबर है : 9602183222

Comments (4)

तहे दिल से आपका धन्यवाद हौसला अफजाई के लिए 🙏

This is amazing. This is not a story it’s a reality…. Hats off and kudos to Harikishan Sayal….

“ज़ीन्दगी बदलने के लिए लड़ना पडता हे, ओर आसान करने के लिए समझना पड़ता है।”

[…] Read : खेलने कूदने की उम्र में सीख रहे हैं BUSINESS… […]

Leave a comment